सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, RTI के दायरे में रहेगा सीजेआई का दफ्तर

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, RTI के दायरे में रहेगा सीजेआई का दफ्तर

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, RTI के दायरे में रहेगा सीजेआई का दफ्तर

Posted by: , Updated: 13/11/19 03:20:44pm


 सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अपने फैसले में कहा कि मुख्य न्यायाधीश का दफ्तर (CJI office) एक पब्लिक अथॉरिटी है जो कि पारदर्शिता कानून और सूचना अधिकार कानून (RTI) के दायरे में आता है। सीजेआइ   जस्टिस रंजन गोगोई की अध्‍यक्षता वाली पांच जजों की संविधान पीठ ने यह ऐतिहासिक फैसला सुनाया। संविधान पीठ ने बीते चार अप्रैल को मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। 

 इसे भी पढ़े : रावलपिंडी: 30 से अधिक बच्चों के साथ यौन शोषण करने वाला हैवान गिरफ्तार           

 न्यायपालिका को नष्ट नहीं कर सकते

इस संविधान पीठ में जस्टिस रंजन गोगोई के साथ साथ जस्टिस एनवी रमना, डीवाई चंद्रचूड़, दीपक गुप्ता एवं संजीव खन्ना भी शामिल हैं। पीठ ने सुनवाई पूरी करते हुए कहा था कि कोई भी अपारदर्शी प्रणाली नहीं चाहता है लेकिन पारदर्शिता के नाम पर न्यायपालिका को नष्ट नहीं कर सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट के महासचिव एवं केंद्रीय लोक सूचना अधिकारी ने दिल्ली हाई कोर्ट और केंद्रीय सूचना आयोग (CIC) के आदेशों को देश की सर्वोच्‍च अदालत में चुनौती दी है।

 इसे भी पढ़े : संगम तट पर देव दीपावली के कार्यक्रम में दीप प्रज्वलित करने पहुंचे डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य  

दिल्ली हाई कोर्ट खारिज कर दी थी दलील 

दिल्ली हाई कोर्ट में तीन जजों की खंडपीठ ने सुप्रीम कोर्ट की इस दलील को मानने से इनकार कर दिया था कि मुख्य न्यायाधीश के दफ्तर को आरटीआइ के दायरे में लाने से न्यायपालिका की आजादी को चोट पहुंचेगी। उच्‍च न्‍यायालय ने 10 जनवरी, 2010 को अपने फैसले में कहा था कि सीजेआइ का दफ्तर आरटीआइ के दायरे में आता है। अदालत ने कहा था कि न्यायिक स्वतंत्रता किसी न्यायाधीश का विशेषाधिकार नहीं है वरन यह एक जिम्मेदारी है जो उसे सौंपी गई है

 इसे भी पढ़े : नई दिल्ली: अंतर्राष्ट्रीय कोर्ट का निर्देश पर कुलभूषण जाधव के लिए आर्मी एक्ट में करेगा बदलाव- पाकिस्तान 

इन्‍होंने शुरू की थी मुहिम 

दिल्‍ली हाईकोर्ट के आदेश को तत्कालीन मुख्‍य न्‍यायाधीश केजी बालाकृष्णन के लिए निजी झटका माना गया था, जिन्होंने आरटीआइ के जरिए जजों के सूचना देने से इनकार कर दिया था। बता दें कि सीजेआइ के दफ्तर को आरटीआइ के तहत लाने की मुहिम एससी अग्रवाल ने शुरू की थी। उनके वकील प्रशांत भूषण ने अदालत में आरटीआइ के दायरे में जजों को नहीं लाने को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए सवाल उठाया था कि क्या न्यायाधीश किसी दूसरी दुनिया से आते हैं।  

 

Recent Comments

Leave a comment

Top