निर्भया के माता-पिता की गुहार - दूसरे जज के पास ट्रांसफर हो केस

निर्भया के माता-पिता की गुहार - दूसरे जज के पास ट्रांसफर हो केस

निर्भया के माता-पिता की गुहार - दूसरे जज के पास ट्रांसफर हो केस

Posted by: Mrs. Pooja Jha, Updated: 17/11/19 04:34:49pm


नई दिल्ली। साल 2012 में 16 दिसंबर की रात को जिस घटना ने हिला के रख दिया था। उस निर्भया गैंगरेप हत्याकाण्ड के केस के लिए पीड़ित के माता-पिता ने अदालत में याचिका दायर कर दोषियों के लिए फांसी की मांग से जुड़े अपने आवेदन को किसी और जज के पास ट्रांसफर करने का अनुरोध किया है। उनका कहना है कि पिछली अदालत में जज न होने से उनका यह आवेदन लंबे समय से लंबित पड़ा है। निर्भया के माता-पिता ने एनबीटी से बातचीत में इसकी पुष्टि की।

 इसे भी पढ़े-   राष्ट्रपति सम्मानित व ताइक्वांडो खिलाड़ी हरीश बोरा का दिल की बीमारी के चलते निधन, शोक में डूबी न्यू मॉडल रेलवे कॉलोनी

'ऐसे जज के पास जाए केस जो कोर्ट में मौजूद तो हो'
निर्भया के माता-पिता ने कहा कि पहले अनु बालिगा नाम की जज इस पर सुनवाई कर रही थीं। फिर पवन कुमार नाम के जज के पास इसे ट्रांसफर कर दिया गया। उनकी कोर्ट पिछले दो महीनों से खाली पड़ी है। इसलिए उन्होंने अर्जी दायर कर डिस्ट्रिक्ट जज से अपने आवेदन को किसी ऐसे जज के पास ट्रांसफर करने का अनुरोध किया है, जो कोर्ट में कम से कम मौजूद तो हो।

 इसे भी पढ़े-  प्रयागराज :  महंत आशीष गिरी ने लाइसेंसी पिस्टल से गोली मारकर दी जान, आश्रम में मचा हड़कंप

उन्होंने इसी साल फरवरी में यह आवेदन दिया था और गुहार लगाई कि मामले के सभी दोषियों को जल्द से जल्द फांसी की सजा दी जाए। अपनी मांग के समर्थन में इन्होंने अदालत में यह दलील दी कि दोषियों की लगभग सभी अपीलों का निपटारा हो चुका है। उन्हें किसी भी कोर्ट ने फांसी की सजा से राहत नहीं दी है।
 

दोनों इसे भी पढ़े- Jharkhand :मंत्री सरयू राय का बड़ा एलान, CM रघुवर दास के खिलाफ लड़ेंगे, चुनाव

लगभग 7 साल बीत चुके हैं 'निर्भया गैंगरेप' को
साल 2012 में 16 दिसंबर की रात 23 साल की निर्भया के साथ चलती बस में गैंगरेप की वारदात को बड़ी बेरहमी से अंजाम दिया गया था। दोषियों ने गैंगरेप के बाद चलती बस से उसे सड़क पर फेंक दिया था। हालांकि, निर्भया की मौत सिंगापुर में इलाज के दौरान हुई। इस वारदात में शामिल 6 लोगों में से तीन फिलहाल तिहाड़ और एक मंडोली जेल में बंद है। बाकी दो में से एक ने ट्रायल के दौरान ही जेल में फांसी लगा ली थी। दूसरा, जूवेनाइल जस्टिस बोर्ड से मिली सजा पूरी कर अब आजाद है। वह घटना के वक्त नाबालिग पाया गया था।
नई दिल्ली
 

add image

Recent Comments

Leave a comment

Top