न्यायपालिका को झुकाने के लिए किया जा रहा है लंबित मामलों का इस्तेमाल:जस्‍टि‍स रंजन गोगोई

न्यायपालिका को झुकाने के लिए किया जा रहा है लंबित मामलों का इस्तेमाल:जस्‍टि‍स रंजन गोगोई

न्यायपालिका को झुकाने के लिए किया जा रहा है लंबित मामलों का इस्तेमाल:जस्‍टि‍स रंजन गोगोई

Posted by: , Updated: 17/11/19 07:49:54pm


नई दिल्ल। सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत हुए मुख्य न्यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा है कि देशभर में लंबित मामलों का इस्तेमाल संस्थान को झुकाने के लिए किया जा रहा है। रविवार को सेवानिवृत हुए जस्टिस गोगोई ने शनिवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से हाई कोर्ट के जजों और न्यायिक अधिकारियों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि जिस बात को लेकर हमें देशभर में चुनौती दी गई है, वह लंबित मुकदमों का मामला है। इसका इस्तेमाल हमारे संस्थान पर हमला करने और हमें झुकाने के लिए किया जा रहा है।

 इसे भी पढ़े :  जस्टिस नजीर को खतरा, मिली जेड श्रेणी की सुरक्षा

जस्टिस गोगोई ने कहा कि एक आंतरिक सर्वेक्षण से पता चलता है कि लगभग 48 फीसद आपराधिक मामले ऐसे हैं, जिनमें आरोपित को कोर्ट में पेश किया जाना है। इसी तरह 23 फीसद सिविल मुकदमों में पार्टियों की उपस्थिति निर्धारित कर दी गई है। न्यायपालिका के लिए तार्किक रूप से जितना संभव है, उससे ज्यादा यह काम करने का प्रयास कर रहा है।

इसे भी पढ़े: प्रेम प्रसंग के कारण हत्या के मामले में उत्तर प्रदेश अव्वल पर, जानें शहरों का हाल 

अदालतों को करना पड़ रहा चुनौतियों का सामना

जस्टिस गोगोई ने कहा कि आज हम सबको नई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। दुर्भाग्य से कोर्ट परिसर के अंदर और बाहर दोनों जगह चुनौतियां बढ़ रही हैं। कोर्ट परिसर के भीतर शिष्टाचार और अनुशासन को लेकर लोग उदासीन होते जा रहे हैं। संस्थान की प्रतिष्ठा हाल के दिनों में बहुत ज्यादा गिर गई है। गुंडागर्दी और डराने वाला व्यवहार कुछ न्यायिक हलकों में दिखाई देने लगा है। हमें ध्यान देना होगा कि शातिर तत्वों को हराया जाए और न्यायपालिका की गरिमा से किसी तरह का समझौता न किया जाए।

 

Recent Comments

Leave a comment

Top