रेजांग ला: छह हजार चीनी सेना पर 120 भारतीय सेना भारी, मेजर शैतान सिंह को मिला था परमवीर चक्र

रेजांग ला: छह हजार चीनी सेना पर 120  भारतीय सेना भारी, मेजर शैतान सिंह को मिला था परमवीर चक्र

रेजांग ला: छह हजार चीनी सेना पर 120 भारतीय सेना भारी, मेजर शैतान सिंह को मिला था परमवीर चक्र

Posted by: Mrs. Pooja Jha, Updated: 18/11/19 05:54:32pm


1962 का नवंबर महीना, बर्फ से ढकी लद्दाख की चुशुल घाटी उस समय तोप के गोलों और गोलियों की आवाजों से गूंज उठी जब भारतीय सेना के 120 जवानों पर चीनी सेना के लगभग छह हजार सैनिकों ने हमला कर दिया।
कड़ाके की ठंड के बीच चीनी सेना ने लद्दाख के रेजांग ला में घुसपैठ शुरू कर दी। सामरिक रूप से महत्वपूर्ण इस इलाके की सुरक्षा की जिम्मेदारी सेना की सबसे पुरानी रेजीमेंट 13 कुमायूं के कंपनी लीडर मेजर शैतान सिंह के हाथों में थी।

राजस्थान: राष्ट्रीय राजमार्ग 11 पर एक ट्रक और बस की भयानक भिड़ंत, 10 लोगों की मौत 

भारतीय सेना ने इस युद्ध में चीनी सैनिकों का मुकाबला मुख्य रूप से 303 राइफल के साथ किया था। कुछ सैनिकों के पास ही ऑटोमेटिक मशीनगन थी। अधिक ऊंचाई के कारण भारतीय सेना के पास एक भी भारी हथियार नहीं था जिससे चीनी सेना के आक्रमण का मुकाबला किया जा सके। सैनिकों के पास गर्म कपड़े तक नहीं थे। कई सैनिकों के पास जूते तक नहीं थे। गोलियां भी सीमित संख्या में थी।

इस कंपनी की पोजीशन एक पहाड़ी के पीछे थी। उनकी सहायता के लिए पीछे से आर्टिलरी (तोप) से भी फायर नहीं किया जा सकता था। वहीं सामने से वे दुश्मन के तोपों के निशाने पर थे।

 इसे भी पढे: महाराष्ट्र: कांग्रेस-एनसीपी की निर्णायक बैठक आज, राज्यपाल से भी करेंगे मुलाकात 

इस कंपनी के पास भीषण बर्फबारी में रहने लायक कपड़े तक नहीं थे। माइनस में तापमान होने के कारण भारतीय सेना के अधिकतर हथियारों से फायर तक नहीं हो पा रहा था। लेकिन उन्होंने चीनी सेना के सामने समर्पण करने के बजाए युद्ध करने का फैसला किया।

अपने अदम्य साहस और बहादुरी के लिए प्रसिद्ध भारतीय सेना के इन बहादुर जवानों ने चीनी सैनिकों की संख्या और उनके आधुनिक हथियारों की परवाह न करते हुए रेजांग ला को उनकी कब्रगाह बना दिया।  मेजर शैतान सिंह की कंपनी ने आखिरी आदमी, आखिरी राउंड और आखिरी सांस तक लड़ाई लड़ी। अदम्य साहस का प्रदर्शन करते हुए 13 कुमाऊं के 120 जवानों ने चीनी सेना के 1300 सैनिकों को मार गिराया।

चीन की बड़ी सेना के सामने भारतीय सेना के इन वीर सिपाहियों ने आखिरी गोली तक लड़ाई की। इस दौरान मातृभूमि की रक्षा करते हुए 114 सैनिक शहीद हो गए जबकि छह सैनिकों को चीनी सेना ने बंदी बना लिया। 

इसे भी पढ़ें- भारत के 47वें मुख्य न्यायाधीश बने जस्टिस बोबडे

लेकिन, बंदी बनाए गए सभी सैनिक चमत्कारिक रूप से चीनी सेना के चंगुल से बचकर निकल गए। बाद में इस सैन्य टुकड़ी को पांच वीर चक्र और चार सेना पदक से सम्मानित किया गया था। अपने अदम्य साहस और नेतृत्व कौशल के लिए मेजर शैतान सिंह को मरणोपरांत सर्वोच्च सैन्य सम्मान परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया। 

रेजांग ला जम्मू-कश्मीर राज्य के लद्दाख क्षेत्र में चुशुल घाटी में एक पहाड़ी दर्रा है। 1962 के युद्ध में 13 कुमाऊं दस्ते का यह अंतिम मोर्चा था। इसे रेजांग ला युद्ध के नाम से जाना जाता है।

Recent Comments

Leave a comment

Top