UP के सभी विश्वविद्यालयों में अब एक समान पाठ्यक्रम

UP के सभी विश्वविद्यालयों में अब एक समान पाठ्यक्रम

UP के सभी विश्वविद्यालयों में अब एक समान पाठ्यक्रम

Posted by: , Updated: 19/11/19 03:01:36pm


गोरखपुर। अब राज्य के सभी विश्वविद्यालयों में स्नातक स्तर पर एक समान पाठ्यक्रम होंगे। लंबी चर्चा  के बाद सोमवार को दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय में न्यूनतम समान पाठ्यक्रम निर्धारण समिति की बैठक में इस पर मुहर लग गई। तीन दिनों के अंदर समिति शासन को अपनी रिपोर्ट सौंप दे देगी। जिसे शासन सभी विश्वविद्यालयों को भेजकर विवि के स्थानीय निकायों से पारित कराकर लागू कराएगी। जुलाई से शुरू होने वाले आगामी सत्र-2020-21 से राज्य के सभी विश्वविद्यालयों में पाठ्यक्रम लागू हो सकते हैं।

 ये भी पढ़े :झारखंड मुक्ति मोर्चा नेता हेमंत सोरेन का दावा- मेरे संपर्क में हैं बीजेपी के दर्जन भर विधायक और सांसद

विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन स्थित कमेटी हाल में समिति के निर्णयों की जानकारी देते हुए चैयरमैन व सिद्धार्थ विश्‍वविद्यालय के कुलपति प्रो.सुरेंद्र दुबे ने बताया कि समिति की सातवीं व अंतिम बैठक में पूरे प्रदेश से बने पाठ्यक्रमों को अंतिम रूप दे दिया गया। निर्णय के अनुसार प्रत्येक विश्‍वविद्यालय में 70 फीसद पाठ्यक्रम लागू करना अनिवार्य होगा। 30 फीसद विश्वविद्यालय स्थानीयता व विशिष्टता के अनुसार संशोधन व परिवर्तन कर सकता है। सभी पाठ्यक्रम डेमोक्रेटिक तरीके से प्रदेश के सभी प्रमुख विश्वविद्यालयों के सहयोग से तैयार किया गया है।

 ये भी पढ़े: इस देश में होती है अपराधियों की पूजा
 

रोजगारपरक है पाठ्यक्रम 

एक समान पाठ्यक्रमों को कौशल विकास कार्यक्रम को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। यानी पाठ्यक्रम को रोजगारपरक बनाया गया है। ताकि छात्र बीए या बीएससी करने के बाद आसानी से रोजगार पा सके। ङ्क्षहदी में प्रयोजनमूलक ङ्क्षहदी जोड़ा गया है। पाठ्यक्रम को बनाने में इस बात का भी ध्यान रखा गया है कि छात्रों को प्रतियोगी परीक्षा में भी एक समान पाठ्यक्रम मिले।

स्टूडेंट फ्रेंडली पाठ्यक्रम

सूबे के सभी विश्वविद्यालयों में लागू किया जाने वाला पाठ्यक्रम स्टूडेंट फ्रेंडली है। इसके लागू हो जाने के बाद इंटर विवि स्टूडेंट ट्रांसफर आसानी से हो सकेगा। यानी लखनऊ से बीए प्रथम वर्ष करने के बाद यदि कोई छात्र चाहे थे आगे की पढ़ाई गोरखपुर या मेरठ से विवि से भी कर सकेगा।

 ये भी पढ़े : JNU Protest : पुलिस ने किया लाठीचार्ज, किसी छात्र का सिर फूटा तो किसी का पैर टूटा

ऐसे शुरू हुई कवायद

पाठ्यक्रम को लेकर 6 जुलाई 2017 को पहली बार राजभवन में कुलपति सम्मेलन में इस पर निर्णय लिया गया। जनवरी 2018 में न्यूनतम समान पाठ्यक्रम निर्धारण समिति का गठन हुआ। पहली बैठक 4 अप्रैल 2018 को बुंदेलखंड विवि झांसी में हुई। इसी प्रकार क्रमश: दूसरी बैठक आगरा विवि में, तीसरी बैठक गोरखपुर विवि में, चौथी बैठक बरेली विवि में, पांचवीं बैठक आगरा विवि में हुई। जिसमें सभी पाठ्यक्रम तैयार होकर आ गए थे। 7 नवंबर 19 को छठीं बैठक लखनऊ में हुई। जिसमें विज्ञान विषय के डीन व अध्यक्ष के साथ समिति के सदस्य बैठे। 15 नवंबर तक तैयार पाठ्यक्रम शासन को सौंपा गया। उसी दिन तय हुआ कि 18 नवंबर को समिति की सातवीं व अंतिम बैठक गोरखपुर विवि में होगी।

ये भी पढ़े: अलर्ट: जल्द ही बंद होने वाला है ये नए जमाने का बैक, तुरंत निकाल लें अपना पैसा
 

लिखित 80 व आंतरिक मूल्यांकन 20 फीसद

समिति की बरेली विवि में हुई बैठक में पाठ्यक्रम बनाने वाले सभी विश्वविद्यालयों को आमंत्रित किया गया था। वहां इसका प्रस्तुतिकरण किया गया। समिति के सदस्यों व अन्य प्रतिनिधियों ने इसे देखा तथा यह अनुभव किया गया कि पाठ्यक्रम अच्छा बना है। लेकिन इसमें पैटर्न की एकरूपता जरूरी है। वहीं यह तय हुआ कि लिखित 80 तथा आंतरिक मूल्यांकन 20 फीसद होना चाहिए। बैठक में सभी को इससे संबंधित प्रारूप दे दिया गया। जिसके बाद सभी ने संशोधित कर उसी फार्मेट पर पुन: पाठ्यक्रम में संशोधन किया। कुछ कटेंट भी बदले गए।

जुड़े हमारे फेसबुक पेज से- https://www.facebook.com/firsteyenws/
ट्विटर पर हमें फॉलो करें- https://twitter.com/firsteyenewslko
सब्सक्राइब करें हमारा यूट्यूब चैनल-https://www.youtube.com/channel/UChwj7_fqaFUS-jghSBkwtDw

 

Recent Comments

Leave a comment

Top