CLAT 2020 के प्रश्न पत्र में बदलाव- अब 2 घंटे में देने होंगे 150 सवालों के जवाब

CLAT 2020 के प्रश्न पत्र में बदलाव- अब 2 घंटे में देने होंगे 150 सवालों के जवाब

CLAT 2020 के प्रश्न पत्र में बदलाव- अब 2 घंटे में देने होंगे 150 सवालों के जवाब

Posted by: Mrs. Pooja Jha, Updated: 23/11/19 04:18:52pm


संयुक्त विधि प्रवेश परीक्षा (क्लैट-2020) के प्रश्न पत्र में बदलाव होगा। इसमें सवालों की संख्या कम होगी। परीक्षा का समय पहले की तरह दो घंटे ही होगा। बंगलुरु में सम्पन्न बैठक में प्रश्न पत्र में यह बदलाव करने का कंसोर्टियम ने पूरा मन बना लिया है। इस पर अन्तिम मुहर जल्द ही अगली बैठक में लगाई जाएगी। साथ ही कंसोर्टियम ने ऑन लाइन आवेदन एक जनवरी से शुरू करने का फैसला किया है।

इसे भी पढ़ें- सत्ता के लिए भतीजे ने चाचा को धोखा दिया:  संजय राउत 

कंसोर्टियम के अध्यक्ष और नालसार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. फैजान मुस्तफा ने बताया कि स्नातक स्तर पर अभी तक प्रश्न पत्र ऐसे थे कि जिसमें विद्यार्थी को कम समय में तेजी से सवाल हल करने होता था। परीक्षा में 2 घंटे की अवधि में विद्यार्थियों से 200 सवाल करना उचित नहीं है। कहीं न कहीं इससे उन पर अतिरिक्त दबाव बनता है। हम इस स्थिति को बदलने का प्रयास कर रहे हैं।

गुरुवार को कंसोर्टियम की बैठक में व्यापक विचार-विमर्श के बाद सहमति बनी है कि क्लैट का प्रश्न पत्र ऐसा हो जिसमें विद्यार्थी की सूझबूझ की क्षमता का आंकलन किया जा सके। विधि के कोर्स के लिए उसकी अर्हता भी साबित हो सके।    

इसे भी पढ़ें- गुड न्यूज के लिए ब्रेक लेंगी करीना कपूर

200 की जगह 120 से 150 प्रश्न पूछे जाएंगे
भोपाल स्थित राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय के कुलपति और  कन्सोर्टियम ऑफ नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के नवनिर्वाचित अध्यक्ष प्रो. वी. विजयकुमार ने बताया कि प्रश्न पत्र में 200 की जगह 120 से 150 सवाल होंगे।  उन्होंने नए प्रश्न पत्र के प्रारूप के बारे में बताते हुए कहा कि विद्यार्थी को एक पैरा दिया जाएगा। उसमें से कई प्रश्न पूछे जाएंगे। 

गरीब छात्रों को छात्रवृत्ति मिलेगी
कन्सोर्टियम ऑफ नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी ने गरीब विद्यार्थियों को स्कॉलरशिप देने का फैसला किया है। साथ ही शिक्षकों को अपना कौशल बढ़ाने के लिए फेलोशिप दी जाएगी। जल्द ही इसके मानक तय किए जाएंगे।

इसे भी पढ़ें- 2041 के लिए दिल्ली का मास्टर प्लान ड्रोन से बनेगा नक्शा

 कन्सोर्टियम ऑफ नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के नवनिर्वाचित अध्यक्ष प्रो. वी. विजयकुमार ने बताया कि अगर गरीब विद्यार्थी पढ़ाई का खर्च उठा नहीं सकता है। उसे किसी प्रकार की कोई भी स्कॉलरशिप नहीं मिल रही है। ऐसे में कन्सोर्टियम ऑफ नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी उसकी पढ़ाई का पूरा खर्च उठाएगी। अभी यह तय किया जाएगा कि एक शैक्षिक सत्र में कितने विद्यार्थियों को स्कॉलरशिप दी जाएगी। शिक्षकों को भी फेलोशिप देने का भी निर्णय किया है। 

जुड़े हमारे फेसबुक पेज से- https://www.facebook.com/firsteyenws/
ट्विटर पर हमें फॉलो करें- https://twitter.com/firsteyenewslko
सब्सक्राइब करें हमारा यूट्यूब चैनल-https://www.youtube.com/channel/UChwj7_fqaFUS-jghSBkwtDw

add image

Recent Comments

Leave a comment

Top