संसद में बोले PM मोदी- संविधान हमारे लिए सबसे बड़ा और पवित्र ग्रंथ

संसद में बोले PM मोदी- संविधान हमारे लिए सबसे बड़ा और पवित्र ग्रंथ

संसद में बोले PM मोदी- संविधान हमारे लिए सबसे बड़ा और पवित्र ग्रंथ

Posted by: Mrs. Pooja Jha, Updated: 26/11/19 12:08:36pm


संविधान दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद भवन के सेंट्रल हॉल में आयोजित संयुक्त बैठक में कहा कि हमारा संविधान, हमारे लिए सबसे बड़ा और पवित्र ग्रंथ है। एक ऐसा ग्रंथ जिसमें हमारे जीवन की, हमारे समाज की, हमारी परंपराओं और मान्यताओं का समावेश है और नई चुनौतियों का समाधान भी है।

इसे भी पढ़ें- तो गवर्नर ने फडणवीस को दिए हैं 14 दिन!

सेंट्रल हॉल में पीएम मोदी का संबोधन
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अधिकारों और कर्तव्यों के बीच के इस रिश्ते और इस संतुलन को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने बखूबी समझा था।

संसद भवन के सेंट्रल हॉल में पीएम मोदी का संबोधन
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हर्ष ये कि संविधान की भावना अटल और अडिग रही है। अगर कभी कुछ इस तरह के प्रयास हुए भी हैं, तो देशवासियों ने मिलकर उनको असफल किया है, संविधान पर आंच नहीं आने दी है।

संविधान सबसे पवित्र ग्रंथ: पीएम मोदी
पीएम मोदी ने कहा कि हमारा संविधान, हमारे लिए सबसे बड़ा और पवित्र ग्रंथ है। एक ऐसा ग्रंथ जिसमें हमारे जीवन की, हमारे समाज की, हमारी परंपराओं और मान्यताओं का समावेश है और नई चुनौतियों का समाधान भी है।

इसे भी पढ़ें- अगले महीने 26 दिसंबर को चार घंटे के लिए बंद रहेगा सबरीमाला मंदिर, जानें कारण

आज का दिन ऐतिहासिक: पीएम मोदी
संविधान दिवस के मौके पर पीएम मोदी बोले कि आज का दिन ऐतिहासिक है। कुछ दिन और अवसर ऐसे होते हैं जो हमारे अतीत के साथ हमारे संबंधों को मजबूती देते हैं। हमें बेहतर काम करने के लिए प्रेरित करते हैं।

इसे भी पढ़ें- साउथ के सुपरस्टार नागार्जुन के घर पर पड़ा आयकर विभाग का छापा ? 

कांग्रेस नेता राहुल गांधी संसद परिसर पहुंचे
कांग्रेस नेता राहुल गांधी संसद परिसर पहुंचे। विपक्षी दल संसद में अंबेडकर प्रतिमा के सामने विरोध प्रदर्शन करेंगे।
राम विलास पासवान ने दी संविधान दिवस की बधाई
रामविलास पासवान ने लिखा कि समस्त देशवासियों को 70वें संविधान दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं। 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा ने दुनिया के इस सबसे बड़े  संविधान को अंगीकृत किया था। भारत के संविधान में 448 अनुच्छेद, 12 अनुसूचियां हैं। समय की मांग के अनुसार अब तक इसमें 103 संशोधन हुए हैं। 

Recent Comments

Leave a comment

Top