JLNMCH में एक्सरे मशीन बंद, अब ब्लड जांच भी बंद होने के कगार पर

JLNMCH में एक्सरे मशीन बंद, अब ब्लड जांच भी बंद होने के कगार पर

JLNMCH में एक्सरे मशीन बंद, अब ब्लड जांच भी बंद होने के कगार पर

Posted by: , Updated: 30/11/19 07:44:26pm


भागलपुर के जेएलएनएमसीएच या मायागंज अस्पताल के ओपीडी में इलाज कराने वाले मरीजों को एक्सरे जांच के लिए निजी जांच घरों में जाना पड़ रहा है। बीते तीन माह से एक्सरे फिल्म नहीं होने के कारण जांच बंद है।
 पहले रोज ओपीडी में इलाज कराने वाले औसतन 125 मरीजों का एक्सरे जांच होता था। अब इन मरीजों को निजी जांच घरों में एक्सरे कराना पड़ रहा है। रेडियोलॉजी विभाग के अध्यक्ष डॉ. एके मुरारका का कहना है कि अभी सिर्फ मायागंज अस्पताल में भर्ती मरीज, एचआईवी, पुलिस केस जुड़े मामले व इमरजेंसी के मरीजों का एक्सरे जांच हो रहा है। इनसे जुड़े करीब 120 मरीजों का रोज जांच किया जा रहा है। ओपीडी मरीजों के एक्सरे पर रोक के बावजूद रेडियोलॉजी विभाग में इतना ही एक्सरे फिल्म बचा हुआ है, जितने में एक माह तक मरीजों का एक्सरे हो सके। ऐसे में यदि कोई इंतजाम नहीं किया गया तो भर्ती व इमरजेंसी के मरीजों का एक्सरे भी बंद होने की आशंका है।

इसे भी पढ़ें- इस कारण एक बार फिर विवादों में आई सलमान की दबंग 3

शासन से फंड नहीं मिला, इसलिए लगानी पड़ी रोक
मायागंज अस्पताल के अधीक्षक डॉ. आरसी मंडल ने कहा कि करीब पांच माह से अस्पताल मद में फंड नहीं मिला है। हर प्रकार के मरीजों का एक्सरे करने पर रोज औसतन 10 हजार रुपये एक्सरे फिल्म खरीद पर खर्च होता था। फंड नहीं मिलने के कारण खर्च को आधा करना पड़ा। इसी के तहत ओपीडी के मरीजों का एक्सरे जांच को बंद करना पड़ा।

इसे भी पढ़ें- Birthday Special: जानें बप्पी लहरी के पास कितना सोना है? क्या है उसकी कीमत  

अब खून जांच बंद होने की आशंका
केमिकल का स्टॉक खत्म होने को है। ऐसे में अब मायागंज अस्पताल में खून जांच बंद होने की आशंका होने लगी है। अगर ऐसा हुआ तो डेंगू, मलेरिया के मरीजों का जांच होना मुश्किल हो जाएगा। ऑपरेशन से पहले मरीजों को खून जांच बाहर निजी जांच घर या फिर अस्पताल में कार्यरत निजी एजेंसी से कराना पड़ेगा। मायागंज अस्पताल के अधीक्षक डॉ. आरसी मंडल ने कहा कि खून जांच के लिए मायागंज अस्पताल में करीब आधा दर्जन मशीन है। केमिकल सिर्फ दो ही मशीनों के लिए मिल रहा है। ऐसे में इमरजेंसी, पैथोलॉजी सेंटर में लगी चार अन्य जांच मशीनें बंद करनी पड़ेंगी। ऐसा हुआ तो इमरजेंसी में 24 घंटे पैथोलॉजी जांच की सुविधा बंद करनी पड़ेगी।

Recent Comments

Leave a comment

Top