अजब-गजब! नेपाल में दिवाली के दूसरे दिन होती है कुत्तो की पूजा

अजब-गजब! नेपाल में दिवाली के दूसरे दिन होती है कुत्तो की पूजा

अजब-गजब! नेपाल में दिवाली के दूसरे दिन होती है कुत्तो की पूजा

Posted by: Firsteye Desk, Updated: 25/10/19 03:17:14pm


भारत में जितना दिवाली को लेकर क्रेज है, उतना शायद ही किसी त्‍योहार को लेकर है। हर देश में अपनी-अपनी परम्परा के अनुसार ही त्यौहार मनाये जाते है। पड़ोसी मुल्‍क नेपाल में एक अलग तरीके की दिवाली मनाई जाती है। यहां कुत्तों की पूजा की जाती  है। 

ये भी पढ़ें- इस दिवाली बनायें ये लेटेस्ट ट्रेंडिंग रंगोली, सब देखकर कहेंगे wow 

नेपाल में दिवाली को तिहार कहा जाता है। यह बिल्कुल वैसे ही मनाया जाता है, जैसे हमारे यहां की दिवाली। लोग दीए जलाते हैं। खुशी बांटते हैं। नए कपड़े पहनते हैं। लेकिन इसके अलगे दिन ही एक और दिवाली मनाई जाती है। इसे कहा जाता है कुकुर तिहार। इस दिन नेपाल में कुत्तों की पूजा की जाती है। आपको बता दे यह पर्व 5 दिनों तक चलता है। इसके दौरान लोग अलग-अलग जानवरों की पूजा करते हैं। 

ये भी पढ़ें- एक ऐसा व्यक्ति जो है बिल्कुल असाधारण, शरीर का हर अंग है अलग जगह पर

जैसे कि गाय, कुत्ते, कौआ, बैल आदि की पूजा की जाती है। कुकुर तिहार के दिन कुत्तों को सम्मानित किया जाता है। उन्हें फूलों की माला पहनाई जाती है। तिलक लगाया जाता है। अगर मान्यताओं की माने तो कुत्ते यम देवता के संदेशवाहक होते हैं। नेपाल में ऐसा भी माना जाता है कि कुत्ते मरने के बाद भी आपकी रक्षा करते हैं। इसी कारण है कि उनकी पूजा की जाती है।

Recent Comments

Leave a comment

Top