दीपों का स्वर्णिम पर्व दीपावली, सभी के जीवन में अनन्त खुशियां लेकर आये: कमलेश दीक्षित

दीपों का स्वर्णिम पर्व दीपावली, सभी के जीवन में अनन्त खुशियां लेकर आये: कमलेश दीक्षित

दीपों का स्वर्णिम पर्व दीपावली, सभी के जीवन में अनन्त खुशियां लेकर आये: कमलेश दीक्षित

Posted by: Mr. Diwakar Pathak, Updated: 26/10/19 05:24:55pm


सुरेन्द्र कुमार मिश्र

औरैया। प्रकाश पर्व दीपावली के शुभ अवसर पर औरैया अपर पुलिस अधीक्षक  कमलेश दीक्षित ने जिले में पर्व को धूमधाम और भाईचारे के साथ मनाने के लिए जहां अपने समस्त अधीनस्थ पुलिस कर्मियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। वहीं सभी अधिकारियों व कर्मचारियों समेत जिले के सभी नागरिकों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं भी दी ।श्री दीक्षित ने कहा कि यह पर्व सभी के जीवन में अंधकार को मिटाकर यश, वैभव और समृद्धशाली बनाने के साथ शरीर  के दीप में आत्मा की बाती को आशा की तीली से रोशन करे।और कोई समस्याग्रस्त ना रहने पाए । इसी के साथ उन्होंने कहा कि दीपावली भारत में ही नहीं बल्कि अन्य कई देशों में भी हिंदुओं द्वारा मनाया जाने वाला सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण त्यौहार है ,दीपों का खास पर्व होने के कारण ही इसे दीपावली या दिवाली का नाम दिया गया है जिसका मतलब होता है दीपों की अवली यानी पंक्ति ।उन्होंने कहा कि इस तरह से दीपों की पंक्तियों से सुसज्जित कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाने वाला महापर्व अंधेरी रात को असंख्य  दीपों की रोशनी से प्रकाशमय करने के कारण ही इस त्यौहार को दीपावली कहा जाता है ।

इसे भी पढ़े : लक्ष्मी पूजन से पहले इन 5 चीजों का जरूर रखें ध्यान

श्री दीक्षित ने कई ग्रंथों के आधार पर पौराणिक तथ्यों का उल्लेख करते हुए कहा कि ऐसा माना जाता है कि कार्तिक माह की अमावस्या को ही मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम 14 वर्ष का वनवास काटकर तथा आसुरी वृत्तियों के प्रतीक रावणादि का संहार  करके अयोध्या वापस लौटे थे इसलिए अयोध्या वासियों ने श्री राम के राज्याभिषेक  पर दीपमाला जलाकर खुशी में महोत्सव मनाया था, उसी दिन से दीपावली मनाने की शुरुआत हो गई । श्री दीक्षित ने यह भी कहा कि इसी के साथ कुछ अन्य भी पौराणिक मान्यताएं हैं जिनके अनुसार इसी दिन भगवान श्री कृष्ण ने अत्याचारी राजा नरकासुर का वध किया था और उस नृशंस राक्षस के मारे जाने के बाद जनता ने खुशी में घी के दीपक जलाये थे ।उनका यह भी कहना था कि यही नहीं कुछ अन्य भी  पौराणिक मान्यताएं  हैं लेकिन सभी का निष्कर्ष एक ही है कि अन्याय रूपी अंधेरे को जो मिटा कर ज्ञान रूपी प्रकाश की किरण पहुंचा दे उसी पर्व का नाम दीपावली है । अपर पुलिस अधीक्षक श्री दीक्षित ने कहा कि दीपोत्सव, दीपपर्व ,दिवाली ,दीपावली सभी का भाव एक ही है  कि सब शुभ हो मंगल ,उल्लास ,उत्कर्ष और उजास का यह सुहाना पर्व एक साथ तमाम मनोभाव को रोशन कर देता है इसलिए यह पर्व सभी के लिए ऐसा हो कि ,हर खुशी खुशी मांगे आपसे, हर जिंदगी जिंदगी मांगे आपसे। इतना उजाला हो आपके जीवन में कि दिए भी रोशनी मांगे आपसे, ऐसी जिले के हर नागरिक को उन्होंने अनन्त हार्दिक मंगल शुभकामनाएं दी हैं।

Recent Comments

Leave a comment

Top