वाराणसी में एक ही परिवार के चार लोगों ने दी जान

वाराणसी में एक ही परिवार के चार लोगों ने दी जान

वाराणसी में एक ही परिवार के चार लोगों ने दी जान

Posted by: Mr. Diwakar Pathak, Updated: 30/10/19 06:44:38pm


वाराणसी। मोमो की दुकान चला कर अपने परिवार का पालन-पोषण करने वाले हुकुलगंज निवासी किशन गुप्ता ने बुधवार की दोपहर अपनी गर्भवती पत्नी और दो बच्चों सहित फांसी के फंदे पर लटकर कर जान दे दी। एक ओर जहां किशन और पत्‍नी ने खुद की जान फांसी लगा कर दी वहीं बाकी बच्‍चों द्वारा जहर खाकर जान देने की घटना से क्षेत्र ग़मगीन है। इस हृदय विदारक घटना को सुन कर हुकुलगंज में भीड़ उमड़ पड़ी। सूचना मिलने  के बाद मौके पर मंडलायुक्त, एसएसपी, एसपी सिटी, एडीएम सिटी सहित अन्य अधिकारी गण पहुंचे थे।

इसे भी पढ़े :मजबूरी कहे या शौक, या फिर भौतिक सुखो के साथ जीवन जीने की प्रबल इच्छा,

सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और जांच पड़ताल शुरू कर दी। पुलिस के अनुसार मौके पर मिले सुसाइड नोट में लिखा है कि 'बीमारी से तंग आकर आत्महत्या कर रहा हूं'। हालांकि पुलिस आत्महत्या  के अन्‍य पहलुओं की भी पड़ताल कर रही है। दोनों बच्‍चों के शव बेड पर मिले हैं वहीं पति पत्‍नी का शव फंदे के सहारे लटकता मिला। मौके पर साक्ष्‍य संकलन के लिए फॉरेंसिक टीम भी पहुंची और आवश्‍यक जांच पड़ताल भी की। वहीं पुलिस ने सभी शवों को कब्‍जे में लेने के बाद पोस्‍टमार्टम के लिए भेजने की कार्रवाई शुरू कर दी है।


आर्थिक तंगी भी बनी वजह

इसे भी पढ़े: अब मायावती को मुख्यमंत्री बनने के लिए अगला जन्म लेना होगा: विधायक सुरेंद्र सिंह

परिवार में चार लोगों की मौत के बाद हड़कंप मच गया, वहीं पिता अमरनाथ गुप्ता के अनुसार दुकान का किराया आदि यही बेटा लेता था। छोटी बहन की शादी में बहुत कर्जा हो गया था और सप्ताह भर से किशन बहुत परेशान था। जबकि भाई का कहना है किशन के ऊपर बहुत कर्ज था, इस वजह से वह काफी समय से परेशान चल रहा था। वहीं तीन भाई और दो बहनों में किशन परिवार में सबसे बड़ा था। इस तरह अचानक बिना परिवार में किसी चर्चा के पूरे परिवार सहित जान देने की घटना के बाद से ही परिवार में मातम की स्थिति है। परिजनों के अनुसार तुलसी निकेतन से ठीक आगे स्थित मकान में मोमो बेचकर जीवन यापन करने वाले किशन गुप्ता (32), नीलम (28) और  दो बच्चे शिखा (5), उज्जवल (6) थे।

इसे भी पढ़े: राम के नाम पर लगातार उबल रही है अयोध्या
 बुधवार की दोपहर किशन गुप्ता और नीलम ने फंदे पर लटक कर जान दे दी तो दूसरी ओर दोनों बच्चे बिस्‍तर पर मृत मिले हैं। पिता के अनुसार किशन ने सुबह 10 बजे मकान के ऊपर स्थित कमरे से मां को फ़ोन करके दाल चावल बनाने को कहा था। 12 बजे छोटा भाई प्रकाश खाने के लिए बुलाने गया तो कमरे के अंदर का हाल देखकर चिल्लाया। इसके बाद सभी को जानकारी हो सकी।पिता के अनुसार बहन पूजा की शादी करीब एक वर्ष पूर्व हुई थी जिसमें 10 लाख रुपया का कर्ज हो गया था। पिता ने कहा कि उसकी दो बिस्वा जमीन बेच कर कर्ज भर दे लेकिन टेंशन मत ले। कर्ज भी सगे संबंधियों से ही लिया था। हालांकि कोई इस बाबत तगादा नही कर रहा था। बताया कि बाई आंख में समस्‍या थी जिसका इलाज लखनऊ में चल रहा था। अभी कुछ दिन पूर्व ही लखनऊ से मां के साथ इलाज करके लौटा था।

Recent Comments

Leave a comment

Top