कमलेश के हत्यारोपितों को यूसुफ ने दिया था पिस्टल

 कमलेश के हत्यारोपितों को यूसुफ ने दिया था पिस्टल

कमलेश के हत्यारोपितों को यूसुफ ने दिया था पिस्टल

Posted by: Mr. Diwakar Pathak, Updated: 02/11/19 02:58:01pm


लखनऊ। हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की लखनऊ में हत्या के मामले में एक और महत्त्वपूर्ण  गिरफ्तारी हुई है।  उसमें गुजरात एटीएस ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। पुलिस ने आखिरकार कमलेश के हत्यारों को पिस्टल देने वाले यूसुफ खान को भी गिरफ्तार कर लिया है। यूपी व गुजरात एटीएस की संयुक्त टीम ने यूसुफ की गिरफ्तारी कानपुर से की है। यूसुफ के  पास से दो मोबाइल फोन बरामद हुए हैं, उसकी फोरेंसिक जांच करवाई जाएगी और कॉल डिटेल के आधार पर आगे कार्यवाही  होगी। टीम उससे पूछताछ कर रही है। वहीं, अभी तक करीब एक दर्जन आरोपी अब तक इस मामले में गिरफ्तार किए जा चुके हैं।

 इसे भी पढ़े  : बहराइच: आयुष्मान भारत योजना की धीमी प्रगति से नाराज़ डीएम 

हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के मुख्य आरोपी अशफाक और मोईनुद्दीन उर्फ फरीद पठान को अभियुक्त यूसुफ खान (24) ने पिस्टल  दिया था। यूपी व गुजरात एटीएस की टीम ने शुक्रवार की शाम छह बजे कानपुर स्थित घंटाघर क्षेत्र से यूसुफ को गिरफ्तार किया है। यह क्षेत्र थाना हरबंश मोहाल में आता है। गिरफ्तार किया गया यूसुफ खान फतेहपुर के हथगांव थानाक्षेत्र में स्थित रायपुर मुवारी का रहने वाला है। पुलिस यूसुफ खान से पूछताछ में लगी है। इसके पास से बरामद हुए मोबाइल फोन की फोरेंसिक जांच होगी। कॉल डिटेल भी इसकी खंगाली जा रही है। 

  इसे भी पढ़े : छठ महापर्व व्रत कथा, और पूजन विधि

बता दें, 31 अक्टूबर को कमलेश तिवारी हत्या मामले में बरेली एटीएस ने कमलेश तिवारी के हत्यारोपित के मददगार वकील नावेद के तीसरे साथी कामरान को गिरफ्तार किया था। कामरान ने हत्यारोपितों को नेपाल पहुंचाने में मदद की थी। कामरान कमलेश तिवारी के हत्यारोपितों की मदद करने वाले दिल्ली हाईकोर्ट के वकील नावेद का बेहद करीबी है। कामरानऔर नावेद ने ही अपनी कार से दोनों हत्यारोपितों को नेपाल तक पहुंचाया था। हत्यारोपितों की मदद करने के मामले में दिल्ली हाईकोर्ट के वकील नावेद के दो साथियों रईस औरआसिफ को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। रईस व आसिफ ने दोनों हत्यारोपितों को शाहजहांपुर में मदद पहुंचाई थी। बताया जा रहा है कि बरेली से गिरफ्तार कामरान ने हीअशफाक का मोबाइल ट्रेन में रखा था।

 इसे भी पढ़े : Shahrukh birthday special: किंग खान की 10 ऐसी फोटोज जो शायद ही आपने कभी देखी हो

इस तरह से चलती ट्रेन में अशफाक के मोबाइल की लोकेशन से उत्तर प्रदेश पुलिस की टीम भ्रमित हुई थी। यह मोबाइल अंबाला में ऑन हुआ तो जांच में लगी पुलिस को लगा कि दोनों हत्यारोपित पंजाब पहुंच गए हैं। कमलेश तिवारी के हत्यारों के मददगारों की लगातार गिरफ्तारी चल रही है। क्राइम टीम के साथ ही एसटीएफ व एटीएस लगातार सक्रिय है।वहीं, पुलिस मामले में गिरफ्तार हत्या के आरोपी शेख अशफाक हुसैन और पठान मोइनुद्दीन अहमद से पूछताछ कर चुकी है। बीते हफ्ते ही दोनों को गुजरात से ट्रांजिट रिमांड पर लखनऊ लाया गया था।

 इसे भी पढ़े : जॉन अब्राहम ने शेयर किया ये दिलचस्प वीडियो
 
पिछले हफ्ते ही बरेली के दरगाह आला हजरत के मौलाना सैय्यद कैफी अली की गिरफ्तारी के बाद लॉ स्टूडेंट और पेशे से वकील मोहम्मद नावेद को यूपी पुलिस और एटीएस ने लंबी पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया था। हत्या के इन दोनों आरोपियों से बरेली से गिरफ्तार नावेद का सामना कराया गया। इस दौरान हत्यारोपियों और नावेद के बयानों को क्रॉस चेक भी किया गया। नावेद पर हत्यारोपियों को नेपाल पहुंचाने का आरोप है। उस पर नागपुर से आसिम की गिरफ्तारी के बाद इन दोनों को नेपाल से शाहजहांपुर लाने का आरोप है। नावेद व मौलाना दोनों पर ही हत्या के आरोपी शेख अशफाक हुसैन और पठान मोईनुद्दीन अहमद को पनाह देने व इलाज करवाने में मदद का आरोप है। आरोप है कि कमलेश तिवारी की हत्या के बाद फरार हुए दोनों आरोपियों को मौलाना कैफी की ओर से मदद मुहैया कराई गई। मदद के तहत कैफी ने दोनों को शरण भी दी। नावेद पर आरोप है कि उसने मौलाना कैफी के निर्देश पर दोनों को बरेली में रुकवाया उसके बाद नेपाल बॉर्डर तक पहुंचने में मदद की थी।

इसे भी पढ़े :  खौफनाक अध्याय का अंत

पूछताछ के दौरान ही कामरान का नाम सामने आया, जिसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया है। पता चला है कि हत्या आरोपियों को कामरान ही नेपाल लेकर गया था।दोनों हत्यारोपित बरेली के ही एक होटल में रुके थे। वहां ठहराने का इंतजाम भी नावेद ने कराया था। पुलिस का कहना है कि आरोपित मलूकपुर के कादिरी होटल में रुके थे। होटल में नीचे रेस्टोरेंट और ऊपर ठहरने की व्यवस्था है। मददगार के तौर पर होटल मालिक का नाम भी लिया जा रहा। पुलिस उसे तलाश कर रही। हिंदू समाज पार्टी के कमलेश तिवारी की हत्या के मामले में पता चला है कि हत्या के एक आरोपी अशफाक के परिवारवालों को 2017 से ही इस हत्याकांड की भनक थी। अशफाक ने 2017 में ही कमलेश की हत्या का पूरा प्लान बना लिया थ। तब यह मामला इसलिए रुक गया, क्योंकि अशफाक की पत्नी और परिवारवालों को इस बात की खबर लग गई थी। अशफाक तब ही एक युवक के साथ हत्या के लिए लखनऊ के लिए आने वाला था। मगर पत्नी ने कसमें खिलाकर उसे शांत करवा दिया था।

 इसे भी पढ़े : आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर भीषण हादसा, तीन की मौत 

लखनऊ के खुर्शेदबाग इलाके में हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की 18 अक्टूबर को हत्या कर दी गई थी। इस मामले में गुजरात एटीएस ने तीन लोगों मौलाना मोहसिन शेख सलीम, रशीद अहमद पठान और फैजान को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में हत्या करने वालों के नाम सूरत के ही रहने वाले अशफाक और मोइनुद्दीन के नाम सामने आए थे। गुजरात एटीएस ने 22 अक्टूबर को दोनों को गिरफ्तार कर लिया था। अशफाक ने 2016 से ही कमलेश की हत्या की साजिश रचना शुरू कर दी थी। उसने सूरत के ही रहने वाले युवक मुदस्सिर को कमलेश की हत्या के लिए तैयार कर लिया था। दोनों कमलेश की हत्या के लिए 2017 में लखनऊ आने वाले थे, लेकिन अशफाक की पत्नी को इस बारे में पता चल गया था। 2017 में अशफाक पीलीभीत में अपने गांव गया। यहीं से लौटते वक्त वह लखनऊ होते हुए गया था, लेकिन उसने कमलेश से मिलने का प्रयास नहीं किया।  

Recent Comments

Leave a comment

Top