कानपुर में डेंगू का कहर, चार और लोगों की गई जान

कानपुर में डेंगू का कहर, चार और लोगों की गई जान

कानपुर में डेंगू का कहर, चार और लोगों की गई जान

Posted by: Mr. Ojaskar Pandey, Updated: 04/11/19 11:50:56am


फर्स्ट आई न्यूज डेस्क।

कानपुर।

डेंगू का प्रकोप कम होने के बजाय बढ़ रहा है। बच्चों समेत चार और लोगों की मौत इस घातक वायरस की चपेट में आने से हो गई। सैकड़ों लोग अस्पतालों में भर्ती हैं। दहशत इतनी है कि पूरा का पूरा परिवार भर्ती होने के लिए दर-दर भटक रहा है। ऐसे में संसाधनों की कमी सबसे बड़ी बाधा बनकर सामने खड़ी हो गई है।

रियल एस्टेट से जुड़ा देश की जीडीपी का आठ फीसद 

हैलट के बाल रोग विभाग में संगीता (7) पुत्री दामोदर सिंह निवासी नवाबगंज कच्ची बस्ती ने दम तोड़ दिया। उसे 10 दिन से बुखार था। चार दिन कल्याणपुर के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती रही। रविवार सुबह रेफर किया। इमरजेंसी आते ही बच्ची की सांस उखड़ गई। मरियम (2) पुत्री दानिश अली निवासी जाजमऊ, लखनऊ रोड के एक नर्सिंग होम में भर्ती थी। खून की दो उल्टियां होने पर रेफर कर दिया। हैलट लाते समय एम्बुलेंस में सांस उखड़ गई।

कन्नौज के तालग्राम निवासी साजिद इलाज के लिए बर्रा दो में अपने रिश्तेदार के यहां आए थे। अस्पताल में भर्ती नहीं हो पाए। घर पर ही सांस उखड़ गई। इसी तरह हरदोई निवासी शैलजा (19) को चार दिनों से बुखार था। ब्लीडिंग शुरू होने पर प्राइवेट डॉक्टर को दिखाया तो उन्होंने डेंगू बताया। दो दिन लाजपत नगर के नर्सिंग होम में भर्ती रही। रविवार को सांस उखड़ गई। 

रेफर किए जा रहे गंभीर मरीज
हैलट अस्पताल के बाल रोग विभाग के डॉक्टरों के मुताबिक प्राइवेट अस्पतालों से बेहद गम्भीर हालत में बच्चे रेफर किए जा रहे हैं। इससे इलाज प्रबंधन नहीं हो पाता है और बच्चों की मौत हो जाती है।

 

add image

Recent Comments

Leave a comment

Top