आंवले के पेड़ की पूजा करने से होती है हर मनोकामना पूरी, इच्छा नवमी आज 

आंवले के पेड़ की पूजा करने से होती है हर मनोकामना पूरी, इच्छा नवमी आज 

आंवले के पेड़ की पूजा करने से होती है हर मनोकामना पूरी, इच्छा नवमी आज 

Posted by: Mrs. Pooja Jha, Updated: 05/11/19 02:48:29pm


आज इच्छा नवमी है। कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी आंवला नवमी के रूप में मनाई जाती है। इसे अक्षय नवमी या इच्छा नवमी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन सुबह व्रत और पूजन का संकल्प कर महिलाएं खीर और पूड़ी बनाकर आंवले के पेड़ के नीचे जाकर जल और दूध से आचमन करती हैं। इसके बाद रोली और मौली बांधकर आंवले के पेड़ का पूजन किया जाता है। साथ ही उसी पेड़ के नीचे बैठकर ब्राह्मणों को भोजन  कराती हैं। उसके बाद स्वयं भोजन करती हैं। 

मान्यता है कि द्वापर युग में भगवान कृष्ण ने अक्षय नवमी के दिन कुंती को इच्छा नवमी का व्रत करने की सलाह दी थी। तब कुंती ने यह व्रत किया था। तब से यह व्रत चला आ रहा है।
अक्षय नवमी पूजा का शुभ मुहूर्त
कार्तिक शुक्ल की नवमी तिथि 5 नवंबर 2019 को पड़ रही है। इस दिन अक्षय नवमी पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजकर 39 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 10 मिनट तक है।

अक्षय नवमी का धार्मिक महत्व
पौराणिक मान्यता के अनुसार, ऐसा कहा जाता है कि सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु कार्तिक शुक्ल पक्ष की नवमी से कार्तिक पूर्णिमा तिथि तक आँवले के वृक्ष पर निवास करते हैं। इसलिए अक्षय नवमी के दिन भगवान विष्णु जी का आशीर्वाद पाने के लिए उनकी आराधना की जाती है।

आँवला नवमी पूजा के लाभ
शास्त्रों में ऐसा कहा गया है कि, आँवला नवमी की पूजा विधि अनुसार करने से कई तरह के लाभ प्राप्त होते हैं। जातकों को इस पर्व के नाम के अनुरूप अक्षय फल प्राप्त होते हैं। यहाँ अक्षय फल से आशय कभी न छय होने वाले लाभों से हैं। इसलिए आज के दिन स्नान, पूजा, दान एवं पुण्य किया जाता है।
 

add image

Recent Comments

Leave a comment

Top