Home खेल कूद मुंबई 42वीं बार बना चैंपियन, फाइनल में विदर्भ को हराया

मुंबई 42वीं बार बना चैंपियन, फाइनल में विदर्भ को हराया

0
मुंबई 42वीं बार बना चैंपियन, फाइनल में विदर्भ को हराया

रणजी ट्रॉफी का फाइनल मुकाबला विदर्भ और मुंबई के बीच खेला गया. अजिंक्य रहाणे की कप्तानी में मुंबई ने इस मैच में 169 रन से शानदार जीत दर्ज की. विदर्भ को फाइनल जीतने के लिए 538 रन की जरूरत थी. चेज करते हुए विदर्भ की टीम 368 रन पर ही ऑल आउट हो गई. विदर्भ के लिए कप्तान अक्षय वाडकर ने शतकीय पारी खेली. वहीं, हर्ष दुबे ने 65 रन बनाए थे. लेकिन वह टीम को जीत नहीं दिला सके. मुंबई ने 42वीं बार रणजी ट्रॉफी फाइनल जीता.

विदर्भ की बैटिंग इस मैच में थोड़ी निराशाजनक रही. पहली इनिंग में विदर्भ 105 रन पर ही ऑल आउट हो गई थी. मुंबई ने दूसरी इनिंग में 418 रन बनाकर विदर्भ के सामने 538 रन की लक्ष्य रखा था. जिसे टीम चेज नहीं कर सकी. मुंबई के लिए दूसरी इनिंग में पृथ्वी शॉ ने ओपनिंग करते हुए 18 गेंदों में 11 रन बनाए थे. वहीं, भूपेन ललवानी ने 38 गेंद में 18 रन की पारी खेली थी. मुशीर खान ने 136 रन की शतकीय पारी खेली थी. अजिंक्य रहाणे और श्रेयस अय्यर ने क्रमश: 73 और 95 रन बनाए थे. इस तरह मुंबई ने दूसरी पारी में 418 रन बनाए.

मुंबई ने इस तरह विदर्भ के सामने 538 रन का लक्ष्य रखा. विदर्भ के लिए दूसरी पारी में सिर्फ अक्षय वाडकर, करुण नायर और हर्ष दुबे के बल्ले से रन निकले. ओपनिंग करने उतरे अथर्व तैडे और ध्रुव शोरे क्रमश: 32 और 28 रन बनाकर आउट हुए. तीसरे नंबर पर आए अमन मोखदे 78 गेंद में 32 रन बनाए. करुण नायर ने भी 74 रन की अच्छी पारी खेली. यश राथौड़ के बल्ले से सिर्फ 7 रन निकले. अक्षर की शतकीय पारी मुंबई के लिए काम नहीं आ सकी. मुंबई के लिए शानदार गेंदबाजी करते हुए तनुष कोटियान ने 4 विकेट लिए.

तनुष ने ध्रुव सुरे, यश राथौड़, अक्षय वडकर और यश ठाकुर का विकेट लिया. इसके अलावा शम्स मुलानी और धवल कुलकर्णी ने 1-1 विकेट लिए. तुषार देशपांडे ने 2 तो वहीं, मुशीर खान ने भी 2 विकेट लिए. मुंबई की जीत में उनकी गेंदबाजी का भी अहम योगदान रहा.